‘सांड की आंख’ की प्रोड्यूसर ने 40 लीटर ब्रेस्ट मिल्क किया डोनेट, ये रही वजह

0
2 views
‘सांड की आंख’ की प्रोड्यूसर ने 40 लीटर ब्रेस्ट मिल्क किया डोनेट, ये रही वजह


नई दिल्लीः बॉलीवुड फिल्मों की निर्माता निधि परमार हीरानंदानी (Nidhi Parmar Hiranandani) इसी साल फरवरी माह में मां बनी थीं. उन्होंने लॉकडाउन के समय अपना ब्रेस्ट मिल्क दान करने का फैसला किया था. 

 

इसी साल बनी थीं मां

निधि ने द बेटर इंडिया को दिए अपने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘अपने बच्चे की परवरिश के बाद मुझे एहसास हुआ कि अभी भी मेरे शरीर में काफी दूध बनता है. मैंने इंटरनेट पर पढ़ा था कि अगर ब्रेस्ट मिल्क को सही से फ्रिज में स्टोर किया जाए, तो यह तीन से चार महीने तक खराब नहीं होता है.’

 

इकट्ठा की जानकारी

वह आगे कहती हैं, ‘इंटरनेट से सुझाव मिला कि इससे फेस पैक्स तैयार हो सकते हैं. मेरे कुछ दोस्तों ने बताया कि वह इससे अपने बच्चों को नहलाते हैं या फिर इसका इस्तेमाल उनके पैर मलने के लिए करते हैं.

तब मुझे लगा कि यह दूध की बर्बादी है और मैं इसे किसी सलोन्स को नहीं देना चाहती थी. मैंने ब्रेस्ट मिल्क डोनेशन के बारे में पता किया.’

 

 

निधि ने बताया कि कैसे उन्होंने मुंबई के खार स्थित सूर्या हॉस्पिटल को अपना 40 लीटर दूध दान किया था. वह बताती हैं, ‘मैंने महिला अस्पताल की अपनी गाइनाकॉलोजिस्ट से संपर्क किया. उन्होंने बताया कि आप सूर्या अस्पताल में दूध डोनेट कर सकते हैं. तब तक मेरे फ्रिज में 150 मिलीलीटर के 20 पैकेट इकट्ठा हो चुके थे. लेकिन लॉकडाउन के समय यह ब्रेस्ट मिल्क डोनेट करने का विचार समस्या लग रही थी. लेकिन अस्पताल काफी सहयोगी था. उन्होंने सुरक्षित तरीके से घर से दूध ले जाने की व्यस्था की.’ 

 

निधि की मदद से अस्पताल का मिल्क बैंक हुआ फिर से शुरू 

बता दें कि निधि इस साल के मई माह से लगभग 40 लीटर दूध डोनेट कर चुकी हैं. वह आगे बताती हैं, ‘पहली डोनेशन के बाद से मैंने घर पर अपना दूध इकट्ठा करना शुरू किया और हर 15 से 20 दिन में अस्पताल को दान कर देती हूं.’

लॉकडाउन में निधि की मदद से हॉस्पिटल को अपना मिल्क बैंक फिर से शुरू करने में मदद मिली. यह दूध प्रीमेच्योर बच्चों को बचाने में बेहद उपयोगी होता है.   

 





Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply