हमारी संस्कृति में अलग-अलग कप्तानों का विचार काम नहीं करेगा: कपिल देव

0
1 views
हमारी संस्कृति में अलग-अलग कप्तानों का विचार काम नहीं करेगा: कपिल देव


नई दिल्ली
राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के लिए अलग अलग कप्तानों को लेकर जारी बहस पर अपना रुख साफ करते हुए पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव (Kapil Dev) ने शुक्रवार को कहा कि ‘एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में दो सीईओ नहीं हो सकते।’

रोहित शर्मा की अगुआई में मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के पांचवां इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) खिताब जीतने के बाद (MI five time Champion) से राष्ट्रीय टीम के अलग-अलग कप्तानों को लेकर बहस बढ़ गई है और कई पूर्व खिलाड़ियों ने सुझाव दिया है कि इस सलामी बल्लेबाज को कम से कम टी20 टीम की कप्तानी सौंपी जाए।

विराट कोहली (Virat Kohli) फिलहाल तीनों प्रारूपों में भारतीय टीम की अगुआई (Virat Kohli Captaincy) करते हैं। कपिल ने ऑनलाइन आयोजित ‘एचटी लीडरशिप समिट’ में कहा, ‘हमारी संस्कृति में इस तरह नहीं हो सकता। क्या एक कंपनी में आप दो सीईओ बनाते हो? नहीं। अगर कोहली टी20 खेल रहा है और वह अच्छा है तो उसे बने रहने दीजिए। हालांकि मैं देखना चाहता हूं कि अन्य खिलाड़ी भी आगे आएं। लेकिन यह मुश्किल है।’

उन्होंने कहा, ‘सभी प्रारूपों में हमारी 70 से 80 प्रतिशत टीम समान है। उन्हें अलग-अलग विचारों वाले कप्तान पसंद नहीं है। अगर आप दो कप्तान रखोगे तो खिलाड़ी सोच सकते हैं कि वह टेस्ट में मेरा कप्तान होगा। मैं उसे नाराज नहीं करूंगा।’

कपिल को हाल में दिल का दौरा (Kapil Dev Heart Attack) पड़ा था जिसके बाद उन्हें एंजियोप्लास्टी करानी पड़ी। तेज गेंदबाजी की कला के बारे में बात करते हुए 1983 विश्व कप विजेता (1983 World Cup Captain) भारतीय टीम के कप्तान रहे कपिल (Kapil) ने कहा कि तेज गेंदबाजों के काफी अधिक वैरिएशन का इस्तेमाल करने से वह दुखी हैं।

उन्होंने कहा, ‘मैं आजकल के तेज गेंदबाजों से खुश नहीं हूं। पहली गेंद क्रॉस सीम नहीं हो सकती। आईपीएल (IPL) में खिलाड़ियों ने महसूस किया कि गति से अधिक महत्वपूर्ण स्विंग है। 120 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से गेंदबाजी करने वाले संदीप शर्मा (Sandeep Sharma) का सामना करना मुश्किल था क्योंकि वह गेंद को मूव करा रहा था।’

कपिल ने कहा, ‘गेंदबाजों को समझना होगा कि गति नहीं स्विंग महत्वपूर्ण है। उन्हें इसे सीखना चाहिए लेकिन वे इस कला से दूर जा रहे हैं। आईपीएल में टी नटराजन (T. Natrajan) मेरा हीरो है। वह युवा गेंदबाज निडर था और इतनी सारी यॉर्कर डाल रहा था।’

कपिल ने कहा कि अगर आपको गेंद स्विंग करनी नहीं आती तो फिर वैरिएशन बेकार हैं। कपिल हालांकि भारत के मौजूदा तेज गेंदबाजों से काफी संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा, ‘हमारे तेज गेंदबाज शानदार हैं। शमी (Shami), बुमराह (Bumrah) को देखिए। एक क्रिकेटर के रूप में यह कहते हुए मुझे काफी खुशी होती है कि आज हम अपने तेज गेंदबाजों पर निर्भर हैं। हमारे गेंदबाज मैच में 20 विकेट लेने में सक्षम हैं। हमारे पास कुंबले (Kumble), हरभजन (Harbhajan Singh) जैसे स्पिनर थे लेकिन आज कोई देश यह नहीं कहना चाहेगा कि उन्हें उछाल भरे विकेट दीजिए।’



Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply