MP : एमपी पुलिस करवा रही है कुत्ते का DNA टेस्ट, मालिक को लेकर है झगड़ा

0
1 views
MP : एमपी पुलिस करवा रही है कुत्ते का DNA टेस्ट, मालिक को लेकर है झगड़ा


होशंगाबाद
एमपी पुलिस मालिक की पहचान के लिए एक कुत्ते का डीएनए टेस्ट करवा रही है। होशंगाबाद जिले में एक कुत्ते के मालिक को लेकर झगड़ा है। जिसे सुलझाने में पुलिस भी अभी तक कामयाब नहीं हुई है। दो मालिकों के दावे के आधार पर पुलिस ने कुत्ते का डीएनए टेस्ट करवाने का फैसला किया है। 3 साल के लेब्रा डॉग पर दो लोग दावेदारी जता रहे हैं। एक दावेदार पत्रकार और दूसरे राजनीतिक कार्यकर्ता हैं।

होशंगाबाद जिले के देहात थाना प्रभारी हेमंत श्रीवास्तव ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि तीन महीने पहले पत्रकार शदाब खान ने शिकायत दर्ज करवाई थी कि उनका कुत्ता कोको गायब है। 18 नवंबर को उन्होंने कहा कि मेरा कुत्ता अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेता कार्तिक शिवहरे के घर में है। शदाब की शिकायत पर पुलिस कुत्ते को थाने लेकर आई। 19 नवंबर को कार्तिक शिवहरे ने थाने पहुंच कर कहा कि कुत्ता हमारा है। उन्होंने कुत्ते का नाम टाइगर बताया है। साथ ही कहा कि उन्होंने कुछ सप्ताह पहले इसे इटारसी से खरीदा है। वहीं, थाना प्रभारी ने कहा कि कुत्ता दोनों नाम से पुकारने पर जवाब दे रहा है। वह कोको और टाइगर नाम के साथ फ्रेंडली है।

Morena: बीहड़ों में घूमता नजर आया टाइगर, दहशत में ग्रामीण, तलाश में जुटा वन विभाग

डीएनए टेस्ट का फैसला
पुलिस अधिकारी ने कहा कि शिवहरे का दावा है कि इस कुत्ते को हमने इटारसी से खरीदा है, जबकि शदाब खान का दावा है कि हमने पचमढ़ी से खरीदा है। दोनों के दावे के बाद हमने कुत्ते का डीएनए टेस्ट करवाने का फैसला किया है। शनिवार को पुलिस टीम पचमढ़ी और इटारसी डॉग के पैरेंट्स का ब्लड सैंपल लेने गई है। शुक्रवार की रात वेटनरी डॉक्टर ने कुत्ते का सैंपल ले लिया है। उसके बाद पुलिस ने शिवहरे को कुत्ता रखने की इजाजत दी है।

गायों के लिए श्मशान बना प्रदेश का पहला गौ अभयारण्य, रविवार को यहीं होगी गौ कैबिनेट की पहली बैठक

दोनों चाहते हैं कि इस मामले में सच्चाई सामने आए। शदाब खान ने कहा कि मैंने कुत्ते से संबंधित सारे साक्ष्य पुलिस के सामने प्रस्तुत किया है। साथ ही मैं डीएनए टेस्ट को लेकर भी अड़ा हूं। वहीं, शिवहरे का कहना है कि शदाब बिना इजाजत मेरे घर से कुत्ते को ले गए हैं। टेस्ट से सच्चाई सामने आ जाएगी।

रोपवे कर्मचारियों को कांग्रेस विधायक की धमकी, बॉस को मिलने भेजो नहीं तो 3 दिन में ताला ठोक दूंगा

वहीं, इस पूरे प्रकरण को लेकर पेटा ने पुलिस को असंवेदनशील ठहराया है। राज्य में पेटा के कोऑर्डिनेटर स्वाति गोरव भदौरिया ने कहा कि कुत्ता बीमार पड़ गया है, पुलिस ने सही से उसकी देखभाल नहीं की है। हम चाहते हैं कि पुलिस और उस व्यक्ति पर एफआईआर की जाए, जिसने पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत झूठे स्वामित्व का दावा किया है। होशंगाबाद के एसपी संतोष सिंह गौर ने इस दावे से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि कुत्ते को सही मालिक मिले यह सुनिश्चित करने के लिए हम केस को संवेदनशील तरीके से निपटा रहे हैं।



Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply